बातें/ Baatein

कुछ तो बात छुपी है तेरे दिल मे,बातों से डर नहीं लगता।बातें जब तक चले, सही,गुमराह मन के भी साथ हुं रहता।। आपस में बीताया ये समय,आपस में रहे हम साथ।इसी याद में कह दो मुझसे,क्यु कांप रहे हैं तेरे हांथ? ये आंखों में आंसू की छाया,ये माथे पर डर की लकीर,चुप रहके सहती हो … Continue reading बातें/ Baatein